ad 1

जानिये ! अंबिया इकराम के बारे में कुछ तफ्सीली मअलूमात





कमोबेश 124000 अम्बिया इकराम इस रूए ज़मीन पर आये,जिनमे से 313 या 315 ही रसूल हुए, नबी उसको कहते हैं जिसको वही तो आती हो मगर तब्लीग़ पर मामूर हो या ना हो और रसूल वो होता है जिस पर वही भी आती है और उसको तब्लीग़ का हुक्म भी होता है|


📕 मवाहिबुल लदुनिया,जिल्द 2,सफह 46





➤इनमे से 26 अंबिया इकराम का ज़िक्र नाम के साथ क़ुरान में आया है (Inme se 26 Nabiyo ka zikr quran me naam ke saath aaya hai jinme)


01. हज़रत आदम अलैहिस्सलाम

02. हज़रत इदरीस अलैहिस्सलाम
03. हज़रत नूह अलैहिस्सलाम
04. हज़रत हूद अलैहिस्सलाम
05. हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम
06. हज़रत लूत अलैहिस्सलाम
07. हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम
08. हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम
09. हज़रत इस्हाक़ अलैहिस्सलाम
10. हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम
11. हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम
12. हज़रत ज़ुलक़िफ्ल अलैहिस्सलाम
13. हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम
14. हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम
15. हज़रत हारुन अलैहिस्सलाम
16. हज़रत अलयसअ अलैहिस्सलाम
17. हज़रत इल्यास अलैहिस्सलाम
18. हज़रत यूनुस अलैहिस्सलाम
19. हज़रत उज़ैर अलैहिस्सलाम
20. हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम
21. हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम
22. हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम
23. हज़रत ज़करिया अलैहिस्सलाम
24. हज़रत यहया अलैहिस्सलाम
25. हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम
26. हज़रत मुहम्मद सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम


👉जानिये ! जिन्नों के बारे में कुछ तफ्सीली मअलूमात


👉हजरत खालीद बिन वलीद رضي الله عنه की टोपी

👉हज़रते अबू बक्र सिद्दीक़ रज़ियल्लाहु तआला अन्हु



और 3 अम्बिया का ज़िक्र इशारे के तौर पर हुआ:


01. हज़रत शमवील अलैहिस्सलाम

02. हज़रत यूशअ अलैहिस्सलाम
03. हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम

📕 फतावा रज़वियह,जिल्द 6,सफह 61




तमाम नबियों में 5 बहुत ज़्यादा मर्तबे वाले हुये:


1. हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम

2. हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम
3. हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम
4. हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम
5. हज़रत नूह अलैहिस्सलाम

📕 शरह फिक़हे अकबर,सफह 116



➤तमाम अंबिया इकराम का दीन एक ही था मगर शरीयत अलग-अलग और आमाल भी जुदा-जुदा थे


📕 खाज़िन,जिल्द 2,सफह 50


➤हज़रत याक़ूब अलैहिस्सलाम की औलाद को बनी इस्राईल कहते हैं और इस क़ौम के सबसे पहले नबी हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम और आखिर में हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम


📕 तफसीरे सावी,जिल्द 1,सफह 139


➤काफिरों की तरफ़ सबसे पहले तब्लीग़ के लिए हज़रत नूह अलैहिस्सलाम को भेजा गया मगर साहिबे शरीयत सबसे पहले हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम हुए.


📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 3,सफह 348

📕 उम्दतुल क़ारी,जिल्द 7,सफह 436





➤ अरब क़ौम में 4 नबी पैदा हुए:


1. हज़रत हूद अलैहिस्सलाम

2. हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम
3. हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम
4. हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम

📕 तफसीरे नस्फी,जिल्द 1,सफह 264




➤ 13 अम्बिया इकराम खतना शुदा पैदा हुए हैं:


01. हज़रत आदम अलैहिस्सलाम

02. हज़रत शीश अलैहिस्सलाम
03. हज़रत नूह अलैहिस्सलाम
04. हज़रत हूद अलैहिस्सलाम
05. हज़रत इदरीस अलैहिस्सलाम
06. हज़रत लूत अलैहिस्सलाम
07. हज़रत यूसुफ अलैहिस्सलाम
08. हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम
09. हज़रत सुलेमान अलैहिस्सलाम
10. हज़रत यहया अलैहिस्सलाम
11. हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम
12. हज़रत शोएब अलैहिस्सलाम
13. हुज़ूर सल्लल्लाहो तआला अलैहि वसल्लम

📕 हयातुल हैवान,जिल्द 1,सफह 97




➤ अब भी 4 अम्बिया इकराम ज़िंदा हैं:


01. हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम

02. हज़रत इदरीस अलैहिस्सलाम
03. हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम
04. हज़रत इल्यास अलैहिस्सलाम

📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 881




➤ अब तक 2 अम्बिया इकराम ने निकाह नहीं फरमाया :


01. हज़रत यहया अलैहिस्सलाम

02. हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम,ये आसमान से उतरने के बाद निकाह करेंगे।


➤ हज़रत दानियाल अलैहिस्सलाम ने दुआ की थी कि मौला मुझे उम्मते मुहम्मदिया में से कोई दफ्न करे तो जब हज़रत अबू मूसा अशअरी रज़ियल्लाहु तआला अन्हु ने तश्तर का किला फतह किया तो एक ताबूत में हज़रत दानियाल अलैहिस्सलाम का जस्दे मुबारक इस तरह था कि जिस्म की सारी रगें चल रही थी और खून रवां था,सो आपने उन्हें दफ्न कर दिया।


📕 अलबिदाया वननिहाया,जिल्द 2,सफह 4


➤ हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उम्मते मुहम्मदिया में पैदा होने की तमन्ना ज़ाहिर की थी। 


📕 मदारेजुन नुबूवत,जिल्द 1,सफह 114


➤ कोई भी नबी किसी का शागिर्द नहीं बना सिवाये हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के कि आप इल्म की खातिर हज़रत खिज़्र अलैहिस्सलाम की बारगाह में हाज़िर हुए। 


📕 तफसीरे नईमी,जिल्द 1,सफह 293


➤ नबियों में सबसे लम्बी उम्र हज़रत नूह अलैहिस्सलाम ने पाई आप 1600 साल दुनिया में रहे। 


📕 अलमलफूज़,हिस्सा 1,सफह 6


➤ हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम और हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने बिला वास्ता अपने रब से बात की है | 


📕 तफसीरे सावी,जिल्द 3,सफह 27


-----------------------------------------