ad 1

जानिए किस तरह अल्लाह के एक वली ने लड़की को बना दिया लड़का (The Power Of Wali ALLAH)

 एक अल्लाह के वली ने लड़की को बना दिया लड़का 



आपने ऐसी करामतें तो बहुत सी सुनी होगी कि फलां के यहां औलाद नहीं होती थी और फलां बुज़ुर्ग की दुआ से औलाद हुई,मगर क्या कभी ऐसी कोई करामत सुनी है कि पैदा हुई लड़की को ही लड़का बना दिया हो,और वो भी किसको,खुद सोहरवर्दी सिलसिले के बानी हज़रत शैख शहाब उद्दीन सोहरवर्दी रज़ियल्लाहु तआला अन्हु का वाक़िया है,पढ़िये

➤ आपके वालिद हज़रत शेख मुहम्मद कुरैशी के यहां कोई औलाद नहीं थी,आप जब बिल्कुल मायूस हो गए तो आपकी बीवी ने मश्वरा दिया कि हुज़ूर ग़ौसे पाक रज़ियल्लाहु तआला अन्हु की बारगाह में हाज़िर होकर उनसे दुआ कराई जाये अब यही एक रास्ता है,फिर क्या था बारगाहे ग़ौसियत में हाज़िर हुए और दुआ की दरख्वास्त की आपने मुराक़बा किया और फरमाया कि बहुत जल्द तुम्हे एक बेटा अता होगा,वक़्त गुज़रा और कुछ महीनो बाद आपके घर एक लड़की पैदा हुई घर में खुशियां चहक उठी कि चलो औलाद तो हुई,जब हुज़ूर ग़ौसे पाक रज़ियल्लाहु तआला अन्हु को खबर दी गयी तो आपने फरमाया कि जाकर ठीक से देखो वो लड़की नहीं लड़का है,अब घर जाकर देखते हैं तो वाक़ई वो लड़की लड़का हो गई फिर आपको इत्तेला कराई गई तो हुज़ूर ग़ौसे पाक रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि ये बहुत मुबारक बच्चा है इसका नाम शहाब उद्दीन रखना,इसकी उम्र लंबी होगी चुंकि ये लड़की से लड़का हुआ है सो इसके बाल और पिस्तान दराज़ होंगे और इससे एक नया सिलसिला चलेगा

महफिले औलिया,सफह 224



👉GOUSE AZAM NE MURDA KO ZINDA KIYA (ग़ौसे आज़म ने मूर्दे को ज़िंदा किया)

👉BIOGRAPHY OF GOUS-E-AZAM (हज़रत अब्दुल क़ादिर रह्मतुल्लाह)

👉ख़्वाब में कुछ जानने के लिए वज़ीफा


➤हुज़ूर ग़ौसे आज़म रज़ियल्लाहु तआला अन्हु फरमाते हैं कि एक रात मैंने ख्वाब देखा कि मैं एक शीर-ख्वार बच्चा हूं और उम्मुल मोमेनीन सय्यदना आईशा सिद्दीक़ा रज़ियल्लाहु तआला अन्हा मुझे अपनी आग़ोश में लेकर दूध पिला रहीं हैं तभी हुज़ूर सल्लललाहो तआला अलैहि वसल्लम तशरीफ ले आयें और फरमाया कि "ऐ आईशा ये हमारा हक़ीक़ी बेटा है" सरकारे आलाहज़रत रज़ियल्लाहु तआला अन्हु ने इस रिवायत को सही और मुस्तनद करार दिया है

📕 क़लाएदुल जवाहर,सफह 140

➤आपकी शान और अज़मत ये भी है कि आने वाला हर महीना पहले आपकी बारगाह में हाज़िर होता फिर ज़माने पर आता अगर आने वाले महीने में लोगों के लिए खैर होती तो अच्छी सूरत में हाज़िरी देता और अगर लोगों के लिए मुसीबत आने वाली होती तो बुरी शक्ल में हाज़िरी देता,युंही एक मर्तबा एक शख्स खूबसूरत चेहरे वाला हाज़िर हुआ और फरमाया कि मैं रमज़ान शरीफ हूं और मैं आपसे रूखसत लेने के लिए आया हूं कि अब आईन्दा आपसे मुलाक़ात नहीं होगी,उसी साल रबीउल आखिर में आपने विसाल फरमाया और रमज़ान मुबारक आपने ना पाया

📕 फतावा करामाते ग़ौसिया,सफह 38

➤आपके 99 नाम हैं

📕 तारीखुल औलिया,सफह 26



--------------------------------------




"Aapne aisi karamtein to bahut si suni hogi ki falan ke yahan aulaad nahin hoti thi aur falan buzurg ki dua se aulaad huyi,magar kya kabhi aisi koi karamat suni hai ki paida huyi ladki ko hi ladka kar diya ho,aur wo bhi kisko,khud soharwardi silasile ke baani hazrat shaikh shahab uddin soharwardi raziyallau taala anhu ka waaqiya hai,padhiye"

➤Aapke waalid hazrat shaikh muhammad quraishi ke yahan koi aulaad nahin thi,aap jab bilkul mayoos ho gaye to aapki biwi ne mashwara diya ki huzoor ghause paak raziyallahu taala anhu ki baargah me haazir hokar unse dua karayi jaaye ab yahi ek raasta hai,fir kya tha baargahe ghausiyat me haazir hue aur dua ki darkhwast ki aapne muraqaba kiya aur farmaya ki bahut jald tumhe ek beta ata hoga,waqt guzra aur kuchh mahino baad aapke ghar ek ladki paida huyi ghar me khushiyan chahak uthi ki chalo aulaad to huyi,jab huzoor ghause paak raziyallahu taala anhu ko khabar di gayi to aapne farmaya ki jakar theek se dekho wo ladki nahin ladka hai,ab ghar jakar dekhte hain to waqayi wo ladki ladka ho gayi fir aapko ittela karayi gayi to huzoor ghause paak raziyallahu taala anhu farmate hain ki ye bahut mubarak bachcha hai iska naam shahab uddin rakhna,iski umr bahut lambi hogi chunki ye ladki se ladka hua hai so iske baal aur pistaan daraaz honge,isse ek naya silsila chalega

📕 Mahfile auliya,safah 224


➤Huzoor ghause aazam raziyallahu taala anhu farmate hain ki ek raat maine khwab dekha ki main ek sheer khwar bachcha hoon aur ummul momeneen sayyadna aaysha siddiqa raziyallahu taala anha mujhe apni aagosh me lekar doodh pila rahin hain tabhi huzoor sallallaho taala alaihi wasallam tashreef le aayen aur farmaya ki "ai aysha ye hamara haqiqi beta hai" sarkare aalahazrat raziyallahu taala anhu ne is waaqiye sahi aur mustanad qaraar diya hai

📕 Qalayedul jawahar,safah 140

➤Aapki shaan aur azmat ye bhi hai ki aane waala har mahin pahle aapki baargah me haazir hota fir zamane par aata agar aane waale mahine me logon ke liye khair hoti to achchhi surat me haaziri deta aur agar logon ke liye musibat aane waali hoti to buri shakl me haaziri deta,yunhi ek martab ek shakhs khoobsurat chehre waala haazir hua aur farmaya ki main ramzan shareef hoon aur main aapse rukhsat lene ke liye aaya hoon ki ab aayinda aapse mulaqat nahin hogi,usi saal rabiul aakhir me aapne wisaal farmaya aur ramzan mubarak aapne na paaya

📕 Fatawa karamate ghausia,safah 38

➤Aapke 99 naam hain

📕 Tarikhul auliya,safah 26