ad 1

PYARI HADEES SHARIF Part- 1


➤हदीस - तुम में से वो शख्स ज़्यादा बेहतर है जो अपने घर वालों से अच्छा सुलूक करता है 

📕 कंज़ुल उम्माल,जिल्द 16,सफह 371

➤हदीस - पेशाब की छींटों से बचो कि आम तौर पर अज़ाबे क़ब्र का बाइस होता है 

📕 बुखारी,जिल्द 1,सफह 34

➤हदीस - जिसने किसी की सिफारिश की और सिफारिश करने वाले को तोहफा दिया तो ये भी सूद है हराम है 

📕 अबु दाऊद,जिल्द 2,सफह 143

➤हदीस - अपने बाप दादा के नाम की कसम ना खाओ अगर ज़रूरत पड़े तो अल्लाह की कसम खाओ वरना खामोश रहो 

📕 मुस्लिम,जिल्द 2,सफह 46
📕 बैहक़ी,जिल्द 10,सफह 28 

➤हदीस - रियाकारी यानि दिखावा शिर्के असगर है 

📕 मिश्कात,सफह 456

➤हदीस - जो लोग नमाज़ पढ़ते हों मगर अमानत में खयानत करते हों तो उनमें कोई भलाई नहीं 

📕 मजमउज़ जवायेद,जिल्द 7,सफह 721

➤हदीस - वो औरत लाअनत में गिरफ्तार है जिसका शौहर उससे नाराज़ हो 

📕 अत्तरगीब वत्तरहीब,जिल्द 3,सफह 29

➤हदीस - जिसका एक भी बच्चा नाबालिग़ी में इंतेक़ाल कर जाये तो ये उसके लिए जन्नत में जाने का सबब बनेगा 

📕 मुसनद अहमद,जिल्द 1,सफह 334

➤हदीस - किसी पर ज़ुल्म करने से पहले ये सोचलो कि अल्लाह तुम पर तुमसे ज़्यादा क़ादिर है 

📕 तिब्रानी,जिल्द 17,सफह 45

➤हदीस - जो बग़ैर इल्म हासिल किये किसी से बहस करे वो रब की नाराज़गी मोल लेता है 

📕 अलइतहाफ,जिल्द 7,सफह 474

➤हदीस - तकब्बुर यानि घमंड करने वाले लोग मौला तआला को सबसे ज़्यादा ना पसंद हैं 

📕 तिर्मिज़ी,जिल्द 2,सफह 22

➤हदीस - अपने मुर्दों को बैरी के पानी से ग़ुस्ल दो 

📕 निसाई,जिल्द 2,सफह 220

➤हदीस - किसी को तोहफा देकर उसे वापस मांगना ऐसा है जैसा कि क़ै करके उसको चाट लेना 

📕 इब्ने माजा,जिल्द 2,सफह 60

➤हदीस - अपने दोस्त से दोस्ती कम करो क्या पता कि कल वो तुम्हारा दुश्मन हो जाए और अपने दुश्मनों से दुश्मनी कम करो क्या पता कि कल वो तुम्हारा दोस्त हो जाये

📕 तिर्मिज़ी,जिल्द 1,सफह 126 

➤हदीस - नज़र का लग जाना दुरुस्त है तो उस पर दम किया जाये 


📕 बुखारी,जिल्द 3,सफह 291


➤HADEES - Tum me se wo shakhs zyada behtar hai jo apne ghar waalon se achchha sulook karta hai


📕 Kanzul ummal,jild 16,safah 371


HADEES - Peshab ki chhinto se bacho ki aam taur par azaabe qabr ka baayis hota hai


📕 Bukhari,jild 1,safah 34


HADEES - Jisne kisi ki sifarish ki aur sifarish karne waale ko tohfa diya to ye bhi sood hai haraam hai


📕 Abu daood,jild 2,safah 143


HADEES - Apne baap daada ke naam ki kasam na khao agar zarurat pade to ALLAH ki kasam khao warna khamosh raho


📕 Muslim,jild 2,safah 46

📕 Baihaqi,jild 10,safah 28

HADEES - Riyakaari yaani dikhawa shirke asgar hai


📕 Mishkat,safah 456


HADEES - Jo log namaz padhte hon magar amanat me khayanat karte hon to unme koi bhalayi nahin


📕 Majmauz zawayed,jild 7,safah 721


HADEES - Wo aurat laanat me giraftar hai jiska shauhar usse naraaz ho


📕 Attargeeb,jild 3,safah 29


HADEES - Jiska ek bhi bachcha na baligi me inteqal karega to ye uske liye jannat me jaane ka sabab banega


📕 Musnad ahmad,jild 1,safah 334


HADEES - Kisi par zulm karne se pahle ye sochlo ki ALLAH tumpar tumse zyada qaadir hai


📕 Tibrani,jild 17,safah 45


HADEES - Jo bagair ilm haasil kiye kisi se bahas kare wo rub ki naarazgi mol leta hai


📕 Alithaaf,jild 7,safah 474


HADEES - Takabbur yaani ghamand karne waale log maula ko sabse zyada na pasand hain


📕 Tirmizi,jild 2,safah 22


HADEES - Apne murdon ko bairi ke paani se gusl do


📕 Nisayi,jild 2,safah 220


HADEES - Kisi ko tohfa dekar usse wapas maangna aisa hai jaisa ki qai karke usko chaat lena


📕 Ibne maaja,jild 2,safah 60


HADEES - Apne dost ke dosti kam karo kya pata ki kal wo tumhara dushman ho jaaye aur apne dushmano se dushmani kam karo kya pata ki kal wo tumhara dost ho jaaye


📕 Tirmizi,jild 1,safah 126


HADEES - Nazar ka lag jaana durust hai to uspar dum kiya jaaye


📕 Bukhari,jild 3,safah 291





No comments