ad 1

🔸इस्लाम में मेहमान नवाज़ी🔸







"मेहमान नवाज़ी हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम की सुन्नत है आप बग़ैर मेहमान के कभी खाना तनावुल नहीं फरमाते थे यहां तक कि अगर कभी कोई ना मिलता तो आप किसी की तलाश में एक दो मील तक सफर कर आते थे कि कोई मिल जाए जिसके साथ आप खाना खायें,मेहमान का आना रहमते खुदावन्दी का आना है और वो अपना रिज़्क़ खुद लेकर आता है इसलिए मेहमान के आने पर खुशी का इज़हार करना चाहिये मेहमान के आने पर नाखुश होना या उसको हिकारत से देखना तंगी और मुफलिसी का बाइस है,चंद हदीसे पाक मुलाहज़ा फरमायें|" 






हदीस शरीफ  


➤जिस घर में लोगों को खाना खिलाया जाता है भलाई उसकी तरफ कोहान की तरफ जाने वाली छुरी से भी तेज़ दौड़ती है| 
📕 इब्ने माजा,सफह 204

➤अपने मेहमान की ताज़ीम करो| 
📕 मुस्लिम,जिल्द 1,सफह 50


➤लोगों ने अर्ज़ किया कि या रसूल अल्लाह सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम हम खाते हैं मगर हमारा पेट नहीं भरता तो आप सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम फरमाते हैं कि शायद तुम लोग अलग अलग खाते हो अर्ज़ की हां तो फरमाया कि इकठ्ठा खाया करो और बिस्मिल्लाह शरीफ पढ़कर शुरू करो| 

📕 इब्ने माजा,सफह 236




फुक़्हा


➤उस शख्स में कोई भलाई नहीं जो मेहमान नवाज़ नहीं और जिसके घर मेहमान नहीं आते उसके घर रहमत के फरिश्ते भी नहीं आते| 

📕 अहयाउल उलूम,जिल्द 2,सफह 12

➤ मेहमान अपना रिज़्क़ लेकर आता है और घर वालों के गुनाह मिटाकर जाता है|

📕 फतावा रज़वियह,जिल्द 9,सफह 176

➤ बन्दा जो कुछ खुद खाता है या अपने मां-बाप या अहलो अयाल पर खर्च करेगा उसका हिसाब क़यामत के दिन देना होगा मगर जो कुछ अपने दोस्तों पर खर्च करेगा उसका हिसाब नहीं होगा इसलिए मेहमान नवाज़ी बुज़ुर्गाने दीन की खास खसलत रही है|

📕 अहयाउल उलूम,जिल्द 2,सफह 9
📕 कीमियाये सआदत,सफह 245


➤ भूख से कम खाना सुन्नत है और पेट भरकर खा लेना मुबाह यानि जायज़ है मगर भूख से ज़्यादा खा लेना कि मेदा या हाज़मा खराब हो जाये हराम है मगर मेहमान का साथ देने के लिए ज़्यादा खा लेने की इजाज़त है|

📕 दुर्रे मुख़्तार,जिल्द 5,सफह 235
📕 फिक़्ही पहेलियां,सफह 247

➤ जब मेहमान आये तो उसकी ताज़ीम करो और उसे खिलाओ पिलाओ कि ऐसा करने से मौला तआला मेज़बान को जहन्नम से 7 खन्दक़ दूर कर देगा और हर खन्दक़ के दर्मियान 500 साल की मुसाफत होगी|

📕 अहयाउल उलूम,जिल्द 2,सफह 9




अब मेहमान कौन है,कब तक है,क्या खिलाया पिलाया जायेगा,उसके लिए एक हदीस पढ़ लीजिये:


रसूल अल्लाह सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि मेहमानी 3 दिन तक है और बेहतरीन पकवान 1 दिन और रात तक उसके बाद जो पकाये वो खिलाये और मेहमान के लिए ये हलाल नहीं कि इतने दिनों तक ठहरा रहे कि मेज़बान को परेशान कर डाले|

📕 तिर्मिज़ी,जिल्द 2,सफह 18

 यानि मेहमान के लिए ये जायज़ नहीं कि 3 दिन से ज़्यादा किसी के घर ठहरे क्योंकि 3 दिन तक वो जो खायेगा उसका हक़ होगा मगर 3 दिन के बाद उसका कोई हक़ नहीं हां अगर मेज़बान खुद 3 दिन के बाद भी मेहमान को रोकता है तो रोक सकता है और अब जो भी खिलायेगा वो सदक़-ए नाफिला में शुमार होगा जिसका उसे अज्रो सवाब मिलेगा|





"Mehmaan nawazi hazrat ibraheem alaihissalam ki sunnat hai aap bagair mehmaan ke khaana nahin khaate the yahan tak ki agar kabhi koi na milta to aap kisi ki talaash me 1,2 meel tak safar kar aate the ki koi mil jaaye jiske saath aap khaana khayein,mehmaan ka aana rahmate khuda wandi ka aana hai aur wo apna rizq khud lekar aata hai isliye mehmaan ke aane par khush hona chahiye usko hukarat se dekhna tangi aur muflisi ka baayis hai,chund hadise paak mulahza farmayein."


HADEES SHARIF 


➤Jis ghar me logon ko khaana khilaya jaata hai bhalayi uski taraf kohaan ki taraf jaane waali chhuri se bhi tez daudti hai.

📕 Ibne maaja,safah 204

➤ Apne mehmaan ka ejaaz karo.

📕 Muslim,jild 1,safah 50

➤ Logon ne arz kiya ki ya Rasool ALLAH sallallahu taala alaihi wasallam hum khaate hain magar hamara peit nahin bharta to aap sallallahu taala alaihi wasallam farmate hain ki shayad tum log alag alag khaate hoge arz ki haan to farmaya ki ikattha khaaya karo aur bismillah sharif padhkar shuru karo

📕 Ibne maaja,safah 236




 FUQHA ❤ 


➤Us shakhs me koi bhalayi nahin jo mehmaan nawaz nahin aur jiske ghar mehmaan nahin aate uske ghar rahmat ke farishte bhi nahin aate.

📕 Ahyaul uloom,jild 2,safah 12

➤Mehmaan apna rizq lekar aata hai aur ghar waalon ke gunaah mitakar jaata hai.

📕 Fatawa razviyah,jild 9,safah 176

➤Banda jo kuch khud khaata hai ya apne maa-baap ya ahlo ayaal par kharch karta hai uska hisaab qayamat ke din dena hoga magar jo kuchh apne dosto par kharch karega uska hisaab nahin hoga isliye mehmaan nawazi buzurgane deen ki khaas khaslat rahi hai.

📕 Ahyaul uloom,jild 2,safah 9
📕 Kimiyaye sa'adat,safah 245

➤Bhookh se kam khaana sunnat hai aur peit bharkar khaana mubaah yaani jayaz hai aur bhookh se zyada kha lena ki jisse meda ya haazma kharab ho jaaye haraam hai magar mehmaan ka saath dene ke liye zyada kha lene ki ijazat hai.

📕 Durre mukhtar,jild 5,safah 235
📕 Fiqhi paheliyan,safah 247

➤Jab mehmaan aaye to uski tazeem karo aur use khilao pilao ki aisa karne se maula taala ghar waalon ko jahannam se 7 khandaq door kar dega aur har khandaq ke darmiyan 500 saal ki musafat hogi.

📕 Ahyaul uloom,jild 2,safah 9




Ab mehmaan kaun hai kab tak hai kya khilaya pilaya jayega uske liye ek hadees padh lijiye:


Rasool ALLAH sallallahu taala alaihi wasallam irshaad farmate hain ki mehmaani 3 din tak hai aur behtareen pakwaan 1 din aur raat uske baad jo pakaye wo khilaye aur mehmaan ke liye ye halaal nahin ki itne dino tak thahra rahe ki mezbaan ko pareshan kar daale.
.
📕 Tirmizi,jild 2,safah 18

Yaani mehmaan ke liye ye jayaz nahin ki 3 din se zyada kisi ke ghar thahre kyunki 3 din tak wo jo khayega uska haq hoga magar 3 din ke baad uska koi haq nahin haan agar mezbaan khud 3 din ke baad bhi mehmaan ko rokta hai to rok sakta hai aur ab jo bhi khilayega wo sadqaye naafila me shumar hoga jiska use ajro sawab milega.

No comments