ad 1

जानिये ! नमाज़ के बारे में कुछ जरूरी बातें, दूसरों तक शेयर करें और ढेरों नेकिया कमाए..




➤हदीस - बच्चा जब 7 साल का हो जाए तो उसे नमाज़ का हुक्म दो और और जब 10 साल का हो जाए तो मारकर पढ़ाओ|

📕 अबु दाऊद,जिल्द 1,सफह 77

➤हदीस - मोमिन और काफिर के दरमियान फर्क़ सिर्फ नमाज़ का है|

📕 निसाई,जिल्द 1,सफह 81


➤हदीस - क़यामत के दिन बन्दे से आमाल में सबसे पहले पूछ नमाज़ की होगी|

📕 कंज़ुल उम्माल,जिल्द 2,सफह 282

➤हदीस - जिसकी अस्र की नमाज़ फौत हो गई उसका अमल ज़ाया हो गया|

📕 बुखारी,जिल्द 1,सफह 78

➤हदीस - जो शख्स जानबूझकर एक वक़्त की नमाज़ छोड़ दे तो उस पर से अल्लाह का ज़िम्मा उठ गया|

📕 अलइतहाफ,जिल्द 6,सफह 392

➤फुक़्हा - नमाज़ में सुस्ती करने वाले क़यामत के दिन सुअर की सूरत में उठेंगे|

📕 क्या आप जानते हैं,सफह 439


➤फुक़्हा - जहन्नम में एक वादी है जिसका नाम वैल है उसकी गर्मी का ये हाल है कि उससे जहन्नम भी पनाह मांगता है उसमे बे नमाज़ी डाले जायेंगे|

📕 पारा 30,सूरह माऊन,आयत 4
📕 बहारे शरीयत,हिस्सा 3,सफह 7

➤फुक़्हा - जो नमाज़ों को उनके वक़्त पर पढ़े और उसके आदाब की हिफाज़त करे तो मौला पर अहद है कि उसको जन्नत में दाखिल करे और जिसने नमाज़ों को छोड़ा या पढ़ने में उसके आदाब व अरकान सही ना रखा तो उस पर कोई अहद नहीं चाहे तो उसे बख्शे और चाहे अज़ाब दे|

📕 मज्मउज़ ज़वायेद,जिल्द 1,सफह 302


➤फुक़्हा - हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की बारगाह में एक औरत हाज़िर हुई और कहा कि आप अल्लाह से मेरी सिफारिश फरमा दीजिये कि मुझसे बहुत बड़ा गुनाह सरज़द हो गया है आपने पूछा कि क्या तो कहने लगी कि मैंने ज़िना कराया और उससे जो बच्चा पैदा हुआ उसे क़त्ल कर दिया,हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि ऐ फासिक़ा फाजिरा औरत निकल यहां से कहीं तेरी नहूसत की वजह से हम पर भी अज़ाब नाज़िल ना हो जाए वो वहां से चली गई,हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम हाज़िर हुए और फरमाया कि आपने उस तौबा करने वाली औरत को क्यों वापस कर दिया तो आप फरमाते हैं कि मैंने उससे ज़्यादा बुराई वाला कोई ना देखा तो हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि जो शख्स जानबूझकर नमाज़ छोड़ता है वो इस औरत से भी ज़्यादा बदकार है|

📕 किताबुल कबायेर,सफह 44


➤ अब इनाम चाहिए या सज़ा फैसला आप खुद करें मर्ज़ी आपकी क्योंकि जिस्म है आपका,अगर इन सबको पढ़कर दिल में कुछ खौफ पैदा हो गया हो और तौबा का इरादा रखते हों तो फौरन ये काम करें कि एक अच्छे हाफिज़ को लगाकर सबसे पहले क़ुर्आन को मखरज से पढ़ना सीखें और नमाज़ के तमाम मसायल को जानने के लिए अब्दुल सत्तार हमदानी की किताब "मोमिन की नमाज़" जो कि हिंदी में भी मौजूद है ले आयें,सबसे पहले अपनी नमाज़ सही कर लीजिए इन शा अल्लाह दुनिया और आखिरत दोनों सही हो जाएगी,आज से बल्कि अभी से नमाज़ शुरू कर दीजिए और जो नमाज़ें क़ज़ा हो चुकीं उन्हें अदा करना शुरू करें,जिसकी नमाज़ें बहुत ज़्यादा हैं तो उनके लिए शरीयत ने कुछ सहूलत दी है मैं पहले बता चुका हूं आज फिर बता देता हूं,मसलन एक शख्स 40 साल की उम्र तक पहुंच गया और उसने नमाज़ें माज़ अल्लाह क़ज़ा कर रखी है तो बालिग़ होने के बाद से हर दिन की 20 रकात नमाज़ पढ़नी होगी पांचों वक़्त की फर्ज़ और इशा की वित्र,तो इस तरह 1 साल की 365 फज्र की और इतनी ही ज़ुहर अस्र मग़रिब इशा और वित्र,अब इसी हिसाब से कितने साल की नमाज़ क़ज़ा हुई है उसे पढ़ना होगा यानि 40 साल में से 12 साल निकाल दीजिए बचे 28 साल तो उसे 28 साल की नमाज़ पढ़नी होगी,और ये नमाज़ें मकरूह वक़्तों के अलावा यानि सूरज निकलने के 20 मिनट बाद और सूरज डूबने से 20 मिनट पहले और निस्फुन्नहार जो कि सूरज के बीचों बीच आने को कहते हैं ये पूरे साल में 39 मिनट से लेकर 47 मिनट तक होता है इनमे छोड़कर कभी भी पढ़ सकते हैं,बेहतर ये है की सुन्नते ग़ैर मुअक़्किदा और नफ़्लों की जगह क़ज़ा पढ़ी जाए और बेहतर यही है कि ये नमाज़ें घर में छिपकर पढ़ी जाए कि नमाज़ क़ज़ा करना गुनाह है और उसको ज़ाहिर करना ये भी गुनाह है,और अगर मस्जिद में ही पढ़ता है तो बाकी नमाज़ें पढ़ने में तो हर्ज नहीं कि किसी को इल्म नहीं होगा कि क्या पढ़ता है मगर वित्र पढ़ने में ये करे कि तीसरी रकात में जो कानो तक हाथ उठाकर अल्लाहु अकबर कहते हैं तो अल्लाहु अकबर कहे मगर हाथ ना उठाये और अगर घर में पढ़ता है तो हाथ भी उठाये,आलाहज़रत जल्द से जल्द इन नमाज़ों को आसानी से अदा करने के लिए फरमाते हैं कि-


" एक दिन की 20 रकात नमाज़ पढ़नी होगी पांचों वक़्त की फर्ज़ और इशा की वित्र,नियत यूं करें "सब में पहली वो फज्र जो मुझसे क़ज़ा हुई अल्लाहु अकबर" कहकर नियत बांध लें युंही फज्र की जगह ज़ुहर अस्र मग़रिब इशा वित्र सिर्फ नमाज़ो का नाम बदलता रहे,क़याम में सना छोड़ दे और बिस्मिल्लाह से शुरू करे,बाद सूरह फातिहा के कोई सूरह मिलाकर रुकू करे और रुकू की तस्बीह सिर्फ 1 बार पढ़े फिर युंही सजदों में भी 1 बार ही तस्बीह पढ़े इस तरह दो रकात पर क़ायदा करने के बाद ज़ुहर अस्र मग़रिब और इशा की तीसरी और चौथी रकात के क़याम में सिर्फ 3 बार सुब्हान अल्लाह कहे और रुकू करे आखरी क़ायदे में अत्तहयात के बाद दुरूद इब्राहीम और दुआए मासूरह की जगह सिर्फ "अल्लाहुम्मा सल्लि अला सय्यदना मुहम्मदिंव व आलिही" कहकर सलाम फेर दें,वित्र की तीनो रकात में सूरह मिलेगी मगर दुआये क़ुनूत की जगह सिर्फ "अल्लाहुम्मग़ फिरली" कह लेना काफी है"

! फरमाते हैं कि अगर किसी ने पक्का इरादा कर लिया कि अब मैं आईन्दा नमाज़ नहीं छोड़ूंगा और अपनी क़ज़ा नमाज़ अपनी ताकत भर अदा करता रहूंगा और फर्ज़ कीजिये 1 ही दिन बाद उसका इन्तेक़ाल हो जाए तो मौला तआला अपनी रहमत से उसकी सब नमाज़ों को अदा लिख देगा|

📕 अलमलफूज़,हिस्सा 1,सफह 62

 तो तौबा कीजिये और अपनी नमाज़ों को अदा करना शुरू कीजिये कि मौत का कोई भरोसा नहीं कि कब आ जाये



➤HADEES - bachcha jab 7 saal ka ho jaaye to use namaz ka hukm do aur aur jab 10 saal ka ho jaaye to maarkar padhao.

 Abu daood,jild 1,safah 77

➤HADEES - Momin aur kaafir ke darmiyan farq sirf namaz ka hai.

📕 Nisaayi,jild 1,safah 81

➤HADEES - Qayamat ke din bande se aamal me sabse pahle poochh namaz ki hogi.

📕 Kanzul ummal,jild 2,safah 282


➤HADEES - JIski asr ki namaz faut ho gayi uska amal zaaya ho gaya.

📕 Bukhari,jild 1,safah 78

➤HADEES - Jo shakhs jaanbujhkar ek waqt ki namaz chhod de to uspar se ALLAH ka zimma uth gaya.

📕 Alithaaf,jild 6,safah 392

➤FUQHA - Namaz me susti karne waale qayamat ke din suwar ki surat me uthenge.

📕 Kya aap jaante hain,safah 439

➤FUQHA - Jahannam me ek waadi hai jiska naam wail hai uski garmi ka ye haal hai ki usse jahannam bhi panaah maangta hai usme be namazi daale jayenge.

📕 Paara 30,surah maoon,aayat 4
📕 Bahare shariyat,hissa 3,safah 7

➤FUQHA - Jo namazo ko unke waqt par padhe aur uske aadab ki hifazat kare to maula par ahad hai ki usko jannat me daakhil kare aur jisne namazo ko chhoda ya padhne me uske aadab o arkaan sahi na rakha to maula par koi ahad nahin chahe to use bakhshe aur chahe azaab de

📕 Majmauz zawayed,jild 1,safah 302

➤FUQHA - Hazrat moosa alaihissalam ki baargah me ek aurat haazir huyi aur kaha ki aap ALLAH  se meri sifarish farma dijiye ki mujhse bahut bada gunah sarzad ho gaya hai aapne poochha ki kya to kahne lagi ki maine zina karaya aur usse jo bachcha paida hua use qatl kar diya,hazrat moosa alaihissalam farmate hain ki ai faasika faajira aurat nikal yahan se kahin teri nahusat ki wajah se hum par bhi azaab naazil na ho jaaye wo wahan se chali gayi,hazrat jibreel alaihissalam haazir hue aur farmaya ki aapne us tauba karne waali aurat ko kyun wapas kar diya to aap farmate hain ki maine usse zyada burayi waala koi na dekha to hazrat jibreel alaihissalam farmate hain ki jo shkahs jaanbujhkar namaz chhodta hai wo is aurat se bhi zyada badkaar hai.

📕 Kitabul kabayer,safah 44

➤Ab inaam chahiye ya saza faisla aap khud karen marzi aapki kyunki jism hai aapka,agar in sabko padhkar dil me kuchh khauff paida ho gaya ho aur tauba ka iraada rakhte hon to fauran ye kaam karen ki ek achchhe haafiz ko lagakar sabse pahle quran ko makhraj se padhna seekhen aur namaz ke tamam masayal ko jaanne ke liye abdul sattat hamdaani ki kitab MOMIN KI NAMAZ jo ki hindi me bhi maujood hai le aayein,sabse pahle apni namaz sahi kar lijiye in sha ALLAH duniya aur aakhirat dono sahi ho jayegi,aaj se balki abhi se namaz shuru kar dijiye aur jo namazein qaza ho chukin unhein ada karna shuru karen,jiski namazein bahut zyada hain to unke liye shariyat ne kuchh sahulat di hai main pahle bata chuka hoon aaj fir bata deta hoon,maslan ek shakhs 40 saal ki umr tak pahunch gaya aur usne namazein maaz ALLAH qaza kar rakhi hai to baalig hone ke baad se har din ki 20 raqat namaz padhni hogi paancho waqt ki farz aur isha ki witr,to is tarah 1 saal ki 365 fajr ki aur itni hi zuhar asr magrib isha aur witr,ab isi hisaab se kitne saal ki namaz qaza huyi hai use padhna hoga yaani 40 saal me se 12 saal ehtiyatan nikaal dijiye bache 28 saal to use 28 saal ki namaz padhni hogi,Aur ye namazein makruh waqton ke alawa yaani suraj nikalne ke 20 minute baad aur suraj doobne se 20 minute pahle aur nisfun nahaar jo ki suraj ke beecho beech aane ko kahte hain ye poore saal me 39 minute se lekar 47 minute tak hota hai inme chhodkar kabhi bhi padh sakte hain,behtar ye hai ki sunnate gair muaqqida aur naflon ki jagah qaza padhi jaaye aur behtar yahi hai ki ye namazein ghar me chhipkar padhi jaaye ki namaz qaza karna gunah hai aur usko zaahir karna ye bhi gunaah hai,aur agar masjid me hi padhta hai to baaki namazein padhne me to harj nahin ki kisi ko ilm nahin hoga ki kya padhta hai magar witr padhne me ye kare ki teesri rakat me jo haath uthakar ALLAHU AKBAR kahte hain to ALLAHU AKBAR kahe magar haath na uthaye aur agar ghar me padhta hai to haath bhi uthaye,AALAHAZRAT jald se jald in namazo ko aasani se ada karne ke liye farmate hain ki.

FUQHA - Ek din ki 20 raqat namaz padhni hogi paancho waqt ki farz aur isha ki witr,niyat yun karen "sab me pahli wo fajr jo mujhse qaza huyi "ALLAHU AKBAR" kahkar niyat baandh lein yunhi fajr ki jagah zuhar asr magrib isha witr sirf namazo ka naam badalta rahe,qayaam me sana chhod de aur bismillah se shuru kare,baad surah fatiha ke koi surah milakar ruke rake aur ruku ki tasbih sirf 1 baar padhe phir yunhi sajdo me bhi 1 baar hi tasbih padhe is tarah do raqat par qaydah karne ke baad zuhar asr magrib aur isha ki 3ri aur 4thi rakat ke qayaam me sirf 3 baar subhaan allah kahe aur ruku kare aakhri qayde me attahyat ke baad duroode ibraheem aur duae maasurah ki jagah sirf ALLAHUMMA SALLI ALA SAYYIDINA MUHAMMADIW WA AALIHI kahkar salaam pher dein,witr ki teeno rakat me surah milegi magar duae qunoot ki jagah sirf ALLAHUMMAG FIRLI kah lena kaafi hai.

! Farmate hain ki agar kisi ne pakka iraada kar liya ki ab main aayinda namaz nahin chhodunga aur apni qaza namaz apni taaqat bhar ada karta rahunga aur farz kijiye 1 hi din baad uska inteqaal ho jaaye to maula taala apni rahmat se uski sab namazo ko ada likh dega.

📕 Almalfooz,hissa 1,safah 62


" To tauba kijiye aur apni namazon ko ada karna shuru kijiye ki maut ka koi bharosa nahin ki kab aa jaye."


No comments